All posts by Barjesh Paul Singh

Columbia Asia Hospital Patiala Organizes Awareness Campaign to Mark World Heart Day

Patiala, 29th September 2021: With an alarming rise in the number of people suffering from Heart ailments in India, Columbia Asia Hospital-Patiala, is holding a Health Heart Campaign with Youths of Patiala and Heart Screening Camp on the occasion of World Heart Day. On this occasion Mr. Gurpreet Singh Bhinder SHO Police Station Civil Lines was present as Chief Guest. He appreciated the youth for their enthusiasm and for being part of this healthy heart campaign. Dr. Deepak Katyal Consultant Cardiologist Columbia Asia Hospital Patiala deliver a talk on how to keep your heart healthy. The camp started on 16th September and would go on till 3rd October. The camp has been providing complete heart checkup facilities including blood sugar, lipid profile, serum creatinine, potassium, platelet count, ECG, screening ECHO and a detailed consultation with cardiologist at a very cost-effective price. Services like angiography, angioplasty, pacemaker and AICD have also been made available. During awareness event members of Patiala Street Riders, Fun on Wheels, Himalayan Riders, Young Khalsa Riders, Patiala Roadies and Patiala Women Riders and many other were present.

World Heart Day is celebrated every year on 29th September with the intent of raising awareness about cardiovascular diseases. Each year it has a different theme which addresses a new aspect of heart diseases. This year, the theme on World Heart Day is “Use Heart to Connect” USE HEART TO CONNECT is about using your knowledge, compassion and influence to make sure you, your loved ones and the communities you’re part of have the best chance to live heart-healthy lives. It’s about connecting with our own hearts, making sure we’re fueling and nurturing them as best we can, and using the power of digital to connect every heart, everywhere.

More than 60 people have already taken benefit of the screening camp and more are expected to turn up in the last days of the camp.

“Any discomfort or any exertions in chest, a person experiences, could be linked to heart and should not be ignored. Patients often tend to neglect chest pain citing acidity or gastric trouble which often leads to catastrophic results,” said Dr. Deepak Katyal Consultant Cardiologist Columbia Asia Hospital, Patiala.

India is currently witnessing an acute crisis of cardiovascular diseases as reported by World Health Organization. The report stated that said India has the highest rate of cardiac arrests in the world.  Nearly two million heart attacks take place in India each year and majority of the victims are youngsters. The fact that one person dies every 33 seconds owing to a heart attack in India is highly alarming. If the current trend continues, the rate of cardiovascular diseases in India will surpass that of any other country in the world, by the year 2021.

There are many types of heart diseases like coronary artery disease, angina and valvular heart diseases being some of the most common in India. 

“Diabetes, smoking, high blood pressure, genetic history, lifestyles, especially the higher intake of carbohydrate rich foods and lack of regular physical exercise are top factors that lead to heart attack. Smoking is another factor that leads to heart problems. Smoking must be avoided and people should eat high-fiber low-saturated food items, besides leading an active life to avoid the problem related to heart,” said Dr Sandeep Thakkar Consultant Cardiologist at Columbia Asia Hospital Patiala.  

Currently, the key challenges that India faces regarding heart ailments are inadequate facilities, lack of accessibility, high costs of efficient and effective treatment and lack of awareness about cardiovascular diseases. Lifestyle changes like healthy eating with consumption of fresh fruits and vegetables, combined with daily exercise and a stress-free environment can keep heart diseases at bay to quite an extent. Regular check-ups of lipid profile and adherence to medications are also very important.

The heart screening camp is an initiative by Columbia Asia Hospital – A Unit of Manipal Hospitals  to spread awareness on heart related ailments and what precaution and lifestyle changes can make a difference in the health of the heart of people. Various other camps have been organized by the hospital in recent past, targeting issues such as Diabetes, Gastrology and Mental Health.

कोलंबिया एशिया अस्पताल पटियाला ने मनाया वर्ल्ड हार्ट डे -किया लोगों को जागरूक

पटियाला 29  सितम्बर , कोलंबिया एशिया अस्पताल, पटिआला ने वर्ल्ड हार्ट डे के मौके पे दिल के रोगों  के प्रति एक जागरूकता अभियान चलाते हुए वाक फॉर हैल्थी हार्ट का आयोजन किया जिसमे पटियाला के युवाओं ने बढ़चढ़ कर भाग लिया I इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में पटियाला के सिविल लाइन्स थाना के इंचार्ज श्री गुरप्रीत सिंह भिंडर ने भी शिरकत की और उन्होंने लोगों को अपने दिल की सेहत के प्रति जागरूक रहने के लिए प्रेरित किया और वहां उपस्थित युवाओं को उनके  उत्साह के लिए धन्यवाद किया I इस मौके पर कोलंबिया एशिया अस्पताल पटिआला के दिल के रोगों के माहिर डॉ दीपक कत्याल ने उपस्थित लोगों को अपने दिल का खास ख्याल ओर उसे तंदरुस्त रखने के उपाए बताये I इस मौके पर अस्पताल की ओर से एक स्क्रीनिंग कैंप आयोजित किया है I यह कैंप 16 सितम्बर से लेकर 30 सितम्बर तक चलेगा जिसमे की  दिल के जाँच के टेस्टः जैसे की ब्लड शुगर, ECG, लिपिड प्रोफाइल, क्रिएटिन, प्लेटलेट काउंट्स, पोटैशियम, स्क्रीनिंग इको और दिल के रोगों के माहिर के साथ सलाह बहुत ही कम दाम में उपलब्ध करवाई जा रही है I

वर्ल्ड हार्ट डे हर साल 29 सितम्बर को दिल सम्बन्धी रोगों के प्रति जागरूकता को बढ़ावा देने के उदेश्य से मनाया जाता है I इस बर्ष वर्ल्ड हार्ट डे का थीम “यूज़ हार्ट टू कनेक्ट” अपने ज्ञान और प्रतिबद्धता और प्रभाव का प्रयोग अपने चाहने वाले और जिस समाज का हम हिस्सा हैं वो एक तंदरुस्त दिल वाली ज़िन्दगी जियें ! अभी तक 60 लोगों ने स्क्रीनिंग कैंप का फायदा उठाया है और कैंप के अंतिम दिनों में और भी लोगों के आने की उम्मीद है I

इस मौके पर कोलंबिया एशिया अस्पताल पटिआला के दिल के रोगों के माहिर डाक्टरों ने लोगों को दिल की सेहत के प्रति जागरूक करते हुए कई बातों का ध्यान रखने के बारे में बताया i किसी भी तरह के काम से छाती में भारीपन या तकलीफ को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता और ये दिल से जुडी बीमारी हो सकती है I  लोग अक्सर छाती के दर्द को नज़रअंदाज़ कर देते हैं या इसे एसिडिटी समझ लेते हैं जिसके कई बार भयानक परिणाम होते है ऐसा कोलंबिया एशिया अस्पताल के दिल के रोगों के माहिर डॉ. दीपक कत्याल का मानना है I

इसके इलावा शुगर , धूम्रपान, उच्च रक्तचाप, रहन -सहन या फिर खान पान और कसरत की कमी भी दिल के रोगों को बढ़ाने में मदद करते हैं ऐसे कोलंबिया एशिया अस्पताल के एक अन्य दिल के रोगों के माहिर डॉ. संदीप ठक्कर  का मानना है I उन्होंने बताया कि अपने दिल को तंदरुस्त रखने के लिए अपने खान पान का ध्यान रखें और और हाई फाइबर लो फैट वाली चीज़ें लें, जंक फ़ूड कि मात्रा को कम करें, रोज़ाना कम से कम आधा घंटा सैर या कसरत ज़रूर करें और नियमित तौर पर अपने हार्ट का चेकअप ज़रूर करवाते रहें और दिल के रोगों के लक्षणों का प्रति सचेत रहें I इस मौके पर पटियाला के स्ट्रीट राइडर्स ग्रुप, यंग खालसा राइडर्स, हिमालयन राइडर्स, फन ऑन व्हील्स, पटिआला रोडीज़ ग्रुप एवं पटियाला वीमेन राइडर्स के मेंबर्स ने भी भाग लिया I

Prevent Hepatitis before it Ensnares You- Dr. G S Sidhu

Dr. G S Sidhu, Consultant Gastroenterology, Columbia Asia Hospital Patiala- A unit of Manipal Hospitals.

Patiala 28th July, How many of us know that viral Hepatitis is killing nearly 1.4 million people globally every year? And that worldwide, nearly 300 million people live with viral Hepatitis unaware? And that it also causes two in every three liver cancer deaths? This is the reason why World Hepatitis Day, observed on July 28 every year, attempts to increase global awareness on Hepatitis, its prevention, diagnosis and treatment.

Almost 100 countries now recognise World Hepatitis Day each year through events such as demonstrations, concerts, talk shows, free screenings, poster campaigns, flash mobs and vaccination drives.  The World Health Organisation (WHO) and the World Hepatitis Alliance prepare and publish a report on the events held across the globe each year. In 2021the theme is “Hepatitis Can’t Wait” On World Hepatitis Day, 28 July, we call on people from across the world to take action and raise awareness of hepatitis because Hepatitis Can’t Wait.

Hepatitis, it is important to know, is an inflammatory condition of the liver. The condition can be self-limiting or can progress to liver fibrosis (scarring), cirrhosis or liver cancer. The disease is caused by a viral infection though there could be other causes of hepatitis. For instance, a condition described as autoimmune Hepatitis results from medications, drugs, toxins, and alcohol told Dr. G S Sidhu Consultant Gastroenterologist Columbia Asia Hospital Patiala- A Unit of Manipal Hospitals. 

HEPATITIS B

Hepatitis B is an infectious Hepatitis caused by Hepatitis B virus (HBV). This infection can be both acute and chronic. Acute Hepatitis Bis anewly acquired infection and individuals affected by the infection notice symptoms between 1 and 4 months after exposure to the virus. A small number of people can develop a life-threatening form of acute hepatitis called fulminant hepatitis. Chronic hepatitis B lasts longer than six months and is usually an infection that has to be dealt with in the longer-term. In certain cases, hepatitis B infection becomes chronic, that it lasts more than the duration of six months. Having chronic hepatitis B increasingly brings up the risk of developing liver failure or liver cancer or cirrhosis of liver — in any of the cases, it permanently scars the liver. Majority of adults can recover fully from Hepatitis B, even though the symptoms might be severe, but children often are the victims of a long time suffering told Dr. G S Sidhu.

Hepatitis B Transmission

The hepatitis B virus is a blood-borne virus. It is transmitted from person to person via blood or fluids contaminated with blood, semen or other bodily fluids. Hepatitis B cannot be transmitted through sneezing or coughing merely.

Causes

  •  Sexual contact
  •  Sharing of needles
  •  Accidental needle sticks
  •  Mother to child

Symptoms 

  • Pain over the liver
  • Jaundice 
  • Dark urine
  • Pale-coloured stools
  • Appetite loss
  • Feeling tired
  • Nausea and vomiting
  • Itching all over the body

Diagnosis

Hepatitis B infection is diagnosed based on the above symptoms and blood tests, which indicate abnormal liver function.

 Treatment

Acute Hepatitis B usually does not require medical treatment. But if symptoms like vomiting and diarrhoea persist, more fluids and electrolytes have to be given to the patient. Experts say there is no medicine to prevent acute Hepatitis B from becoming chronic. If the symptoms last for longer period of time and if LFT is abnormal after 3 months, consult a gastroenterologist.

Immunization

Recombivax, Comvax, Engirex-B are certain vaccines to prevent Hepatitis B.

PREVENTION

  • Razor, toothbrush, fingernail clippers, should not be shared if they have blood on them.
  • Think about health risks if you are planning to get a tattoo or body piercing. You can become infected if sterilized needles and equipment and disposable gloves are not used.
  • Practice safe sex. Latex condoms have to be used when multiple partners are involved to prevent HBV transmission.
  • If you inject drugs, don’t share needles or other equipment.

ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਨੂੰ ਵਿਸ਼ਵ ਪੱਧਰੀ ਮਲਟੀ-ਸਪੈਸ਼ੈਲਿਟੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਮੁਹੱਈਆ ਕਰਵਾਉਂਦਾ ਹੈ।

ਮਰਜਰ ਮਗਰੋਂ ਐੱਚਸੀਐੱਮਸੀਟੀ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਡਾਕਟਰੀ ਮਾਹਰਾਂ ਵੱਲੋਂ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਵੱਖ ਵੱਖ ਯੂਨਿਟਾਂ ਵਿੱਚ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਲਈ ਓਪੀਡੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਸ਼ੁਰੂ।

ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ, 03 ਜੁਲਾਈ, 2021: ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ (ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੀ ਇਕਾਈ) ਨੇ ਹੁਣ ਗੁੜਗਾਓਂ, ਗਾਜ਼ੀਆਬਾਦ ਅਤੇ ਪਟਿਆਲਾ ਦੀਆਂ ਇਕਾਈਆਂ ਵਿਚ ਆਪਣੀਆਂ ਓ.ਪੀ.ਡੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਕੀਤਾ ਹੈ। ਹਾਲ ਹੀ ਵਿੱਚ  ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ  ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ ਦੇ 100 ਫ਼ੀਸਦ ਸਟੇਕ ਖਰੀਦ ਕੇ ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਦੂਜੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡੀ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਚੇਨ ਬਣ ਕੇ ਉਭਰਿਆ ਹੈ।

ਐੱਚਸੀਐੱਮਸੀਟੀ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਓਨਕੋਲੋਜੀ, ਨਾੜੀ ਸਰਜਰੀ, ਹੇਮੇਟੋਲੋਜੀ, ਸੀਟੀਵੀਐੱਸ, ਜੀਆਈ ਸਰਜਰੀ ਅਤੇ ਕਾਰਡੀਓਲੌਜੀ ਦੇ ਡਾਕਟਰਾਂ ਦੀ ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਹੀ ਤਜਰਬੇਕਾਰ ਟੀਮ ਹੁਣ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਦੇ ਗੁੜਗਾਓਂ, ਗਾਜ਼ੀਆਬਾਦ ਅਤੇ ਪਟਿਆਲਾ ਕੇਂਦਰਾਂ ਵਿੱਚ ਨਿਯਮਤ ਅਧਾਰ ‘ਤੇ ਓਪੀਡੀ ਲਈ ਉਪਲਬਧ ਹੈ। ਇਹ ਓਪੀਡੀਜ਼ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੀਆਂ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਲੋੜਾਂ ਪੂਰੀਆਂ ਕਰਕੇ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਕੇਂਦਰਾਂ ਦੀਆਂ ਮੌਜੂਦਾ ਸਮਰੱਥਾਵਾਂ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਹ ਸੇਵਾਵਾਂ 23 ਜੂਨ 2021 ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋਈਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਦਿਨਾਂ ਵਿੱਚ ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਸਿਹਤ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੇਣ ਲਈ ਵੱਡੇ ਪੱਧਰ ਤੇ ਬੁਨਿਆਦੀ ਵਿਸਤਾਰ ਕਰਨ ਦੀ ਯੋਜਨਾ ਹੈ। ਮਣੀਪਾਲ ਅਸਪਤਾਲ ਤੋਂ ਡਾਕਟਰ ਯੁਗਲ ਕਿਸ਼ੋਰ ਮਿਸ਼ਰਾ ਅਤੇ ਡਾਕਟਰ ਸੰਜੇ ਕੁਮਾਰ ਕੇਵਲ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ – ਹਾਰਟ ਸਰਜਰੀ ਦੇ ਮਾਹਿਰ, ਡਾਕਟਰ ਪਿਯੂਸ਼ ਬਾਜਪਈ ਅਤੇ ਡi. ਸਨੀ ਗਰਗ – ਕੈਂਸਰ ਦੇ ਰੋਗਾਂ ਦੇ ਮਾਹਿਰ, ਡਾਕਟਰ ਨੀਤੀਸ਼ ਆਂਚਲ -ਵਸਕੂਲਰ ਅਤੇ ਐਂਡੋ ਵਸਕੂਲਰ ਸਰਜਰੀ ਦੇ ਮਾਹਿਰ ਆਪਣੀਆਂ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੇਣਗੇ I

ਸ੍ਰੀ ਪ੍ਰਮੋਦ ਅਲਾਘਾਰੂ, ਖੇਤਰੀ ਸੀਓਓ, ਉੱਤਰੀ ਅਤੇ ਪੱਛਮੀ ਕਲੱਸਟਰ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ, “ਅਸੀਂ ਛੇ ਦਹਾਕਿਆਂ ਤੋਂ ਮਰੀਜ-ਕੇਂਦਰਤ ਨਜ਼ਰੀਏ ਨਾਲ ਵਿਸ਼ਵ ਪੱਧਰੀ ਕਲੀਨਿਕਲ ਸੇਵਾਵਾਂ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਲਈ ਵਚਨਬੱਧ ਹਾਂ। ਇਸ ਮਰਜਰ ਪਿੱਛੇ ਸਾਡਾ ਉਦੇਸ਼ ਸਾਡੇ ਡਾਕਟਰਾਂ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਡਾ ਕੈਨਵਸ ਤਿਆਰ ਕਰਨਾ ਹੈ ਜੋ ਉਨ੍ਹਾਂ ਮਰੀਜਾਂ ਦੀਆਂ ਬਦਲੀਆਂ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਦੀਆਂ ਜ਼ਰੂਰਤਾਂ ਉੱਤੇ ਕੰਮ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਸਹਾਈ ਹੋਵੇਗਾ, ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਮਲਟੀ-ਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ।”

ਸ਼੍ਰੀ ਗੁਰਕੀਰਤ ਸਿੰਘ, ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ, ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ, ਪਟਿਆਲਾ ਯੂਨਿਟ ਦੇ ਜਨਰਲ ਮੈਨੇਜਰ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ, “ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੀ ਟੀਮ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਮਰਜਰ ਮਗਰੋਂ ਇੱਕ ਵੱਡੀ ਸੰਸਥਾ ਬਣਨ ਉੱਤੇ ਖੁਸ਼ੀ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦੀ ਹੈ, ਜੋ ਹੁਣ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਨੂੰ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੇਣ ਵਿੱਚ ਕਾਮਯਾਬ  ਹੋਵੇਗੀ।”

ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਬਾਰੇ:

ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਮੋਢੀ ਵਜੋਂ, ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਭਾਰਤ ਦੀ ਦੂਜੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡੀ ਮਲਟੀ-ਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਹੈਲਥਕੇਅਰ ਸੰਸਥਾ ਹੈ ਜੋ ਹਰ ਸਾਲ 4 ਮਿਲੀਅਨ ਤੋਂ ਵੱਧ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦਾ ਇਲਾਜ ਕਰਦੀ ਹੈ। ਭਾਰਤ ਦੇ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਵਿੱਚ ਇਸਦੀ ਹਾਲ ਹੀ ਵਿੱਚ 100% ਹਿੱਸੇਦਾਰੀ ਨਾਲ, ਏਕੀਕ੍ਰਿਤ ਸੰਗਠਨ ਨੇ ਅੱਜ 14 ਸ਼ਹਿਰਾਂ ਦੇ 26 ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਵਿੱਚ 4,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਡਾਕਟਰਾਂ ਅਤੇ 10,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਕਰਮਚਾਰੀਆਂ ਦੀ ਇੱਕ ਪ੍ਰਤਿਭਸ਼ਾਲੀ ਟੀਮ ਨਾਲ 7,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਬਿਸਤਰਿਆਂ ਵਾਲੇ ਪੈਨ-ਇੰਡੀਆ ਨੂੰ ਵਧਾ ਦਿੱਤਾ ਹੈ। ਇਸਦਾ ਉਦੇਸ਼ ਇੱਕ ਕਿਫਾਇਤੀ, ਉੱਚ ਕੁਆਲਟੀ ਦੇ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਢਾਂਚੇ ਨੂੰ ਵਿਕਸਿਤ ਕਰਨਾ ਹੈ ਅਤੇ ਅੱਗੇ ਇਸ ਨੂੰ ਹਸਪਤਾਲ ਦੇ ਦਾਇਰੇ ਤੋਂ ਅੱਗੇ ਵਧਾਉਣਾ ਹੈ। ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਦੁਨੀਆ ਭਰ ਦੇ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਲਈ ਵਿਆਪਕ ਇਲਾਜ ਅਤੇ ਬਚਾਅ ਸਬੰਧੀ ਦੇਖਭਾਲ ਮੁਹੱਈਆ ਕਰਦੇ ਹਨ।

कोलंबिया एशिया अस्पताल – मणिपाल अस्पताल श्रृंखला की एक इकाई ने मरीजों के लिए विश्व स्तर की मल्टी स्पेशियलिटी सेवाएं शुरू की

विलय के बाद एचसीएमसीटी मणिपाल हॉस्पीटल्स के मेडिकल विशेषज्ञों ने कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल्स की भिन्न इकाइयों में अपनी ओपीडी सेवाएं मुहैया करवानी शुरू की

पटियाला, 03, जुलाई 2021:  कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल्स (मणिपाल हॉस्पीटल्स की एक इकाई) ने अब अपनी सेवाओं का विस्तार किया है और गुड़गांव, गाजियाबाद तथा पटियाला की इकाइयों में ओपीडी सेवाओं के तहत मेडिकल सुविज्ञताओं की पेशकश करेंगे। यह मणिपाल हॉस्पीटल्स के भारत में दूसरी सबसे बड़ी हेल्थ केयर श्रृंखला बनने के महीने भर बाद हो रहा है। इससे पहले कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल्स के 100% का अधिग्रहण कर लिया गया था।

एचसीएमसीटी मणिपाल हॉस्पीटल्स के बेहद अनुभवी चिकित्सकों की एक टीम कैंसर, वस्कुलर सर्जरी, हिमैटोलॉजी, सीटीवीएस (हार्ट सर्जरी), जीआई सर्जरी और कार्डियोलॉजी के क्षेत्र में अपनी सुविज्ञता मुहैया करवाने के लिए नियमित आधार पर कोलंबिया एशिया के पटियाला, गुड़गांव और गाजियाबाद केंद्रों में नियमित आधार पर ओपीडी के लिए अपनी सेवाएं मुहैया करवाएंगे। ओपीडी की यह सुविधा मौजूदा सुविधा के अलावा होगी और कोलंबिया एशिया के केंद्रों की क्षमता का विस्तार होगा तथा मरीजों की सुविज्ञ आवश्यकताओं की पूर्ति होगी। ये सेवाएं पटियाला इकाई में 3 जुलाई 2021 से शुरू होंगी। अस्पताल की योजना इसकी संरचना का विस्तार करने की भी है ताकि आने वाले समय में एकीकृत हेल्थकेयर सेवाएं मुहैया कराई जा सकें। डॉ. युगल किशोर मिश्रा, प्रमुख, नैदानिक सेवाएं, अध्यक्ष, कार्डियैक साइंसेज एवं  प्रमुख कार्डियो वस्कुलर सर्जन, 2. डॉ संजय कुमार केवल कृष्ण -ह्रदय रोग सर्जरी के माहिर 3. डॉ पीयूष वाजपेयी, विभागाध्यक्ष और सलाहकार – मेडिकल हिमैटो ऑनकोलॉजिस्ट, 4. डॉ. सन्नी गर्ग, सलाहकार, मेडिकल ऑनकोलॉजी और 5. डॉ. नीतिश आंचल, विभागाध्यक्ष, वस्कुलर एंड एंडोवस्कुलर सर्जरी।      

श्री प्रमोद अलघरु, रीजनल सीओओ, नॉर्थ एंड वेस्ट क्लस्टर मणिपाल हॉस्पीटल्स ने कहा, हम छह दशक से ज्यादा समय से मरीज केंद्रित रुख के साथ विश्व स्तर की नैदानिक सेवाएं मुहैया करवाने के लिए प्रतिबद्ध रहे हैं। इस विलय से हमारा लक्ष्य अपने चिकित्सकों के लिए एक बड़ा कैनवास तैयार करना है। इससे उन्हें मल्टी स्पेशियलिटी सुविधाओं की जरूरत वाले मरीजों के लिए हेल्थकेयर की बदलती आवश्यकताओं की पूर्ति करने और गहरा प्रभाव छोड़ने में मददगार बनाएगा।

कोलंबिया एशिया अस्पताल पटियाला ,मणिपाल हॉस्पीटल्स की एक इकाई के महाप्रबंधक श्री गुरकीरत सिंह ने कहा, कोलंबिया एशिय हॉस्पीटल्स टीम्स को मणिपाल हॉस्पीटल्स की टीम के साथ  मिलकर एक बड़ी इकाई बनाने की खुशी है। अब यह बड़ी संख्या में मरीजों की सेवा कर सकेगी गई और चिकित्सीय उत्कृष्टता इसके कोर मेडिकल मूल्यों में जुड़ी हुई है।

Columbia Asia Hospitals – A unit of Manipal Hospitals starts World-Class Multi-Speciality Services to Patients

Post the merger, medical experts from HCMCT Manipal Hospitals started providing OPD services to patients in various unit of Columbia Asia Hospitals

Patiala, 03rd July 2021:  Columbia Asia Hospitals (A Unit of Manipal Hospitals) have now extended their services to offer medical specialities in their OPD services at Gurgaon, Ghaziabad and Patiala units. This comes a month after Manipal Hospitals became the second largest healthcare chain in India after 100% acquisition of Columbia Asia Hospitals.

A highly experienced team of doctors across oncology, vascular surgery, haematology, CTVS, GI surgery and cardiology from HCMCT Manipal Hospitals are now available for OPDs on a regular basis at the Gurgaon, Ghaziabad and Patiala centres of Columbia Asia. These OPDs are an add on to the existing capabilities of the Columbia Asia centres by catering to specialised needs of patients. The services started from 23rd June’ 21. Doctors who will be offering their services in Patiala are Dr. Yugal Kishore Mishra – HOD Cardiac Sciences & Chief Cardiovascular Surgeon, Dr. Sanjay Kumar Kewal Krishan- Consultant Cardiothoracic Surgery, Dr. Peush Bajpai- HOD & Consultant Medical Oncology, Dr. Nitish Anchal- Senior Consultant Vascular & Endovascular Surgery. The hospital also plans to extend its infrastructure in order to provide integrated healthcare services in coming days.

Mr. Pramod Alagharu, Regional COO, North & West Cluster Manipal Hospitals, said, “We have been committed to delivering world-class clinical services with a patient-centric approach for over six decades. With this merger, we aim at creating a larger canvas for our doctors which will help them make a deeper impact on the changing healthcare needs of patients who require multi-speciality services.”

Mr. Gurkirat Singh, General Manager, Columbia Asia Hospital, Patiala-A Unit of Manipal Hospitals, said, “Columbia Asia Hospitals team is glad to have merged with Manipal Hospitals to form a larger entity that will now be able to serve a greater number of patients with clinical excellence embedded in its core medical values.”

About Manipal Hospitals: As a pioneer in healthcare, Manipal Hospitals is India’s second largest multi-specialty healthcare providers treating over 4 million patients annually. With its recent acquisition of 100% stake in Columbia Asia Hospitals in India, the integrated organisation today has an enhanced pan-India footprint with 26 hospitals across 14 cities with 7,000+ beds with a talented pool of 4,000+ doctors and 10,000+ employees. Its focus is to develop an affordable, high quality healthcare framework through its multispecialty and tertiary care delivery spectrum and further extend it to out of hospital care. Manipal Hospitals provides comprehensive curative and preventive care for a multitude of patients from around the globe.

ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ – ਮਣੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੀ ਇਕਾਈ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਲਈ ਵਿਸ਼ਵ ਪੱਧਰੀ ਮਲਟੀ-ਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਦੀ ਹੈ।

ਸਮਾਵੇਸ਼ ਹੋਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ, ਐਚਸੀਐਮਸੀਟੀ ਮਣੀਪਾਲਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਡਾਕਟਰੀ ਮਾਹਰਾਂ ਨੇ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਵੱਖ ਵੱਖ ਯੂਨਿਟਾਂਵਿੱਚ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਨੂੰ ਓਪੀਡੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੇਣਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤਾਹੈ I

ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ, 28 ਜੂਨ, 2021: ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ (ਮਨੀਪਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੀ ਇਕਾਈ) ਨੇ ਹੁਣ ਗੁੜਗਾਓਂ, ਗਾਜ਼ੀਆਬਾਦ ਅਤੇ ਪਟਿਆਲਾ ਦੀਆਂ ਇਕਾਈਆਂ ਵਿਚ ਆਪਣੀਆਂ ਓ.ਪੀ.ਡੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਵਿਚ ਡਾਕਟਰੀ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ਤਾਵਾਂ ਦੀ ਪੇਸ਼ਕਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਆਪਣੀਆਂ ਸੇਵਾਵਾਂ ਵਧਾ ਦਿੱਤੀਆਂ ਹਨ। ਇਹ ਇਕ ਮਹੀਨੇ ਬਾਅਦ ਵਾਪਰਿਆ  ਹੈ ਜਦੋਂ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ 100%  ਪ੍ਰਾਪਤੀ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਦੂਜੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡੀ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਚੇਨ ਬਣ ਗਿਆ।

ਐਚਸੀਐਮਸੀਟੀ ਮਣੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਦੇ ਓਨਕੋਲੋਜੀ, ਨਾੜੀ ਸਰਜਰੀ, ਹੇਮੇਟੋਲੋਜੀ, ਸੀਟੀਵੀਐਸ, ਜੀਆਈ ਸਰਜਰੀ ਅਤੇ ਕਾਰਡੀਓਲੌਜੀ ਦੇ ਡਾਕਟਰਾਂ ਦੀ ਇੱਕ ਬਹੁਤ ਹੀ ਤਜਰਬੇਕਾਰ ਟੀਮ ਹੁਣ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਦੇ ਗੁੜਗਾਓਂ, ਗਾਜ਼ੀਆਬਾਦ ਅਤੇ ਪਟਿਆਲਾ ਕੇਂਦਰਾਂ ਵਿੱਚ ਨਿਯਮਤ ਅਧਾਰ ਤੇ ਓਪੀਡੀ ਲਈ ਉਪਲਬਧ ਹੈ। ਇਹ ਓਪੀਡੀਜ਼ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੀਆਂ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਲੋੜਾਂ ਪੂਰੀਆਂ ਕਰਕੇ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਕੇਂਦਰਾਂ ਦੀਆਂ ਮੌਜੂਦਾ ਸਮਰੱਥਾਵਾਂ ਵਿੱਚ ਵਾਧਾ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਮਣੀਪਾਲ ਅਸਪਤਾਲ ਤੋਂ ਡਾਕਟਰ ਯੁਗਲ ਕਿਸ਼ੋਰ ਮਿਸ਼ਰਾ ਅਤੇ ਡਾਕਟਰ ਸੰਜੇ ਕੁਮਾਰ ਕੇਵਲ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ – ਹਾਰਟ ਸਰਜਰੀ ਦੇ ਮਾਹਿਰ, ਡਾਕਟਰ ਪਿਯੂਸ਼ ਬਾਜਪਈ ਅਤੇ ਡਰ. ਸਨੀ ਗਰਗ – ਕੈਂਸਰ ਦੇ ਰੋਗਾਂ ਦੇ ਮਾਹਿਰ, ਡਾਕਟਰ ਨੀਤੀਸ਼ ਆਂਚਲ -ਵਸਕੂਲਰ ਅਤੇ ਐਂਡੋ ਵਸਕੂਲਰ ਸਰਜਰੀ ਦੇ ਮਾਹਿਰ ਆਪਣੀਆਂ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੇਣਗੇ I   ਇਹ ਸੇਵਾਵਾਂ 23 ਜੂਨ 2021 ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋਣਗੀਆਂ ਅਤੇ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਦਿਨਾਂ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਮਿਲ ਸਿਹਤ ਸੇਵਾਵਾਂ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਲਈ ਆਪਣੀ ਬੁਨਿਆਦੀ ਵਿਸਤਾਰ ਕਰਨ ਦੀ ਵੀ ਯੋਜਨਾ ਬਣਾ ਰਹੀ ਹੈ।

ਸ੍ਰੀ ਪ੍ਰਮੋਦ ਅਲਾਘਾਰੂ, ਖੇਤਰੀ ਸੀਓਓ, ਉੱਤਰੀ ਅਤੇ ਪੱਛਮੀ ਕਲੱਸਟਰ ਮਨੀਪਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ, ਅਸੀਂ ਛੇ ਦਹਾਕਿਆਂ ਤੋਂ ਮਰੀਜਕੇਂਦਰਤ ਨਜ਼ਰੀਏ ਨਾਲ ਵਿਸ਼ਵ ਪੱਧਰੀ ਕਲੀਨਿਕਲ ਸੇਵਾਵਾਂ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਲਈ ਵਚਨਬੱਧ ਹਾ ਇਸ ਸਮਾਵੇਸ਼  ਨਾਲ, ਸਾਡਾ ਉਦੇਸ਼ ਸਾਡੇ ਡਾਕਟਰਾਂ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਡਾ ਕੈਨਵਸ ਤਿਆਰ ਕਰਨਾ ਹੈ ਜੋ ਉਨ੍ਹਾਂ ਮਰੀਜਾਂ ਦੀਆ ਬਦਲੀਆ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਦੀਆਂ ਜ਼ਰੂਰਤਾਂ ਉੱਤੇ ਡੂੰਘਾ ਪ੍ਰਭਾਵ ਪਾਉਣ ਵਿੱਚ ਸਹਾਇਤਾ ਕਰੇਗਾ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਮਲਟੀਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ

ਸ਼੍ਰੀ ਗੁਰਕੀਰਤ ਸਿੰਘ, ਜਨਰਲ ਮੈਨੇਜਰ, ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲ, ਪਟਿਆਲਾ ਮਣੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਦੇ ਇੱਕ ਯੂਨਿਟ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ, “ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੀ ਟੀਮ ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਦੇ ਸਮਾਵੇਸ਼ ਤੋਂ ਇੱਕ ਵੱਡੀ ਸੰਸਥਾ ਬਣਨ ਉੱਤੇ ਖੁਸ਼ੀ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦੇ ਹਨ ਜੋ ਕਿ ਹੁਣ ਵੱਡੀ ਗਿਣਤੀ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੀ ਸੇੇਵਾ ਕਰਨਗੇ।”

ਮਨੀਪਲ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਬਾਰੇ:

ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਮੋਢੀ ਵਜੋਂ, ਮਨੀਪਾਲ ਹਸਪਤਾਲ ਭਾਰਤ ਦਾ ਦੂਜਾ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਮਲਟੀ-ਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਹੈਲਥਕੇਅਰ ਪ੍ਰਦਾਤਾ ਹੈ ਜੋ ਹਰ ਸਾਲ 4 ਮਿਲੀਅਨ ਤੋਂ ਵੱਧ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦਾ ਇਲਾਜ ਕਰਦਾ ਹੈ। ਭਾਰਤ ਦੇ ਕੋਲੰਬੀਆ ਏਸ਼ੀਆ ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਵਿੱਚ ਇਸਦੀ ਹਾਲ ਹੀ ਵਿੱਚ 100% ਹਿੱਸੇਦਾਰੀ ਨਾਲ, ਏਕੀਕ੍ਰਿਤ ਸੰਗਠਨ ਨੇ ਅੱਜ 14 ਸ਼ਹਿਰਾਂ ਦੇ 26 ਹਸਪਤਾਲਾਂ ਵਿੱਚ 4,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਡਾਕਟਰਾਂ ਅਤੇ 10,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਕਰਮਚਾਰੀਆਂ ਦੇ ਇੱਕ ਪ੍ਰਤਿਭਾਵਾਨ ਪੂਲ ਨਾਲ 7,000 ਤੋਂ ਵੱਧ ਬਿਸਤਰੇ ਵਾਲੇ ਪੈਨ-ਇੰਡੀਆ ਨੂੰ ਵਧਾ ਦਿੱਤਾ ਹੈ। ਇਸਦਾ ਧਿਆਨ ਇਸ ਦੀ ਮਲਟੀਸਪੈਸ਼ਲਿਟੀ ਅਤੇ ਤੀਸਰੀ ਦੇਖਭਾਲ ਸਪੁਰਦਗੀ ਦੇ ਜ਼ਰੀਏ ਇੱਕ ਕਿਫਾਇਤੀ, ਉੱਚ ਕੁਆਲਟੀ ਦੀ ਸਿਹਤ ਸੰਭਾਲ ਦੇ ਢਾਂਚੇ ਤੋਂ ਵਿਕਸਿਤ ਕਰਨਾ ਹੈ ਅਤੇ ਅੱਗੇ ਇਸਨੂੰ ਹਸਪਤਾਲ ਦੀ ਦੇਖਭਾਲ ਤੋਂ ਬਾਹਰ ਵਧਾਉਣਾ ਹੈ। ਮਨੀਪਲ ਹਸਪਤਾਲ ਦੁਨੀਆ ਭਰ ਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਲਈ ਵਿਆਪਕ ਇਲਾਜ ਅਤੇ ਬਚਾਅ ਸੰਬੰਧੀ ਦੇਖਭਾਲ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਦੇ ਹਨ।

कोलंबिया एशिया अस्पताल – मणिपाल अस्पताल श्रृंखला की एक इकाई ने मरीजों के लिए विश्व स्तर की मल्टी स्पेशियलिटी सेवाएं शुरू की

विलय के बाद एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल के मेडिकल विशेषज्ञों ने कोलंबिया एशिया अस्पताल की भिन्न इकाइयों में अपनी ओपीडी सेवाएं मुहैया करवानी शुरू की

नई दिल्ली, 28जून 2021:कोलंबिया एशिया अस्पताल (मणिपाल अस्पताल श्रृंखला की एक इकाई) ने अब अपनी सेवाओं का विस्तार किया है और गुड़गांव, गाजियाबाद तथा पटियाला की इकाइयों में ओपीडी सेवाओं के तहत मेडिकल सुविज्ञताओं की पेशकश करेंगे। यह मणिपाल हॉस्पीटल्स के भारत में दूसरी सबसे बड़ी हेल्थ केयर श्रृंखला बनने के महीने भर बाद हो रहा है। इससे पहले कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल्स के 100% का अधिग्रहण कर लिया गया था।

एचसीएमसीटी मणिपाल हॉस्पीटल्स के बेहद अनुभवी चिकित्सकों की एक टीम ऑनकोलॉजी (कैंसर), वस्कुलर सर्जरी, हिमैटोलॉजी, सी.टी.वी.एस (हार्ट सर्जरी), जीआई सर्जरी और कार्डियोलॉजी के क्षेत्र में अपनी सुविज्ञता मुहैया करवाने के लिए नियमित आधार पर कोलंबिया एशिया के पटियाला, गुड़गांव और गाजियाबाद केंद्रों में नियमित आधार पर ओपीडी के लिए अपनी सेवाएं मुहैया करवाएंगे। ओपीडी की यह सुविधा मौजूदा सुविधा के अलावा होगी और कोलंबिया एशिया के केंद्रों की क्षमता का विस्तार होगा तथा मरीजों की सुविज्ञ आवश्यकताओं की पूर्ति होगी। मणिपाल अस्पताल से डॉ युगल किशोर मिश्रा एवं डॉ संजय कुमार केवल कृष्ण -ह्रदय रोग सर्जरी के माहिर, डॉ पीयूष बाजपई और डॉ सन्नी गर्ग – कैंसर रोगों के माहिर, डॉ नितीश अंचल – वैस्कुलर अवं एंडोवैस्कुलर सर्जरी के माहिर अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे I ये सेवाएं पटियाला इकाई में 3 जुलाई 2021 से शुरू होंगी। अस्पताल की योजना इसकी संरचना का विस्तार करने की भी है ताकि आने वाले समय में एकीकृत हेल्थकेयर सेवाएं मुहैया कराई जा सकें।     

श्री प्रमोद अलघरु, रीजनल सीओओ, नॉर्थ एंड वेस्ट क्लस्टर मणिपाल हॉस्पीटल्स ने कहा, हम छह दशक से ज्यादा समय से मरीज केंद्रित रुख के साथ विश्व स्तर की नैदानिक सेवाएं मुहैया करवाने के लिए प्रतिबद्ध रहे हैं। इस विलय से हमारा लक्ष्य अपने चिकित्सकों के लिए एक बड़ा कैनवास तैयार करना है। इससे उन्हें मल्टी स्पेशियलिटी सुविधाओं की जरूरत वाले मरीजों के लिए हेल्थकेयर की बदलती आवश्यकताओं की पूर्ति करने और गहरा प्रभाव छोड़ने में मददगार बनाएगा।

कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल पटियाला – मणिपाल हॉस्पीटल्स की एक इकाई के महाप्रबंधक श्री गुरकीरत सिंह ने कहा,  “कोलंबिया एशिय हॉस्पीटल्स टीम्स को मणिपाल हॉस्पीटल्स की टीम के साथ  मिलकर एक बड़ी इकाई बनाने की खुशी है। अब यह बड़ी संख्या में मरीजों की सेवा कर सकेगी गई और चिकित्सीय उत्कृष्टता इसके कोर मेडिकल मूल्यों में जुड़ी हुई है।

मणिपाल हॉस्पीटल्स के बारे में:

हेल्थकेयर के क्षेत्र की एक अग्रणी संस्था के रूप में मणिपाल हॉस्पीटल्स भारत में अस्पतालों का दूसरा सबसे बड़ा नेटवर्क है, जो हर साल 4 मिलियन से ज्यादा रोगियों को सेवाएं प्रदान करता है। भारत में कोलंबिया एशिया हॉस्पीटल्स के 100% स्टेक का अधिग्रहण करके एकीकृत संस्थान ने आज देश भर में अपनी पहुंच बना ली है। देश के 14 शहरों में इसके 26 अस्पताल हैं,  जहां 7000 से ज्यादा मरीज रह सकते हैं। इनके लिए यहां 4000 से ज्यादा चिकित्सक और 10,000 से ज्यादा कर्मचारी हैं। इसका फोकस एक किफायती, उच्च गुणवत्ता वाला हेल्थकेयर संरचना का विकास करने पर है और यह सब इसके मल्टी स्पेशियलिटी तथा टर्टियरी केयर डिलीवरी स्पेक्ट्रम   के जरिए किया जाएगा और इसका विस्तार अस्पताल के बाहर की देखरेख तक किया जाएगा। मणिपाल हॉस्पीटल्स दुनिया भर के रोगियों को सम्पूर्ण उपचारात्मक और निवारक देखभाल सेवाएं प्रदान करता है।

Columbia Asia Hospitals – A unit of Manipal Hospitals Starts World-Class Multi-Speciality Services to Patients

  • Post the merger, medical experts from HCMCT Manipal Hospitals started providing OPD services to patients in various unit of Columbia Asia Hospitals

New Delhi, 25th June 2021:  Columbia Asia Hospitals (A Unit of Manipal Hospitals) have now extended their services to offer medical specialities in their OPD services at Gurgaon, Ghaziabad and Patiala units. This comes a month after Manipal Hospitals became the second largest healthcare chain in India after 100% acquisition of Columbia Asia Hospitals.

A highly experienced team of doctors across oncology, vascular surgery, haematology, CTVS, GI surgery and cardiology from HCMCT Manipal Hospitals are now available for OPDs on a regular basis at the Gurgaon, Ghaziabad and Patiala centres of Columbia Asia. These OPDs are an add on to the existing capabilities of the Columbia Asia centres by catering to specialised needs of patients. The services started from 23rd June’ 21. The hospital also plans to extend its infrastructure in order to provide integrated healthcare services in coming days.

Mr. Pramod Alagharu, Regional COO, North & West Cluster Manipal Hospitals, said, “We have been committed to delivering world-class clinical services with a patient-centric approach for over six decades. With this merger, we aim at creating a larger canvas for our doctors which will help them make a deeper impact on the changing healthcare needs of patients who require multi-speciality services.”

Mr. Gurkirat Singh, General Manager, Columbia Asia Hospital, Patiala-A Unit of Manipal Hospitals, said, “Columbia Asia Hospitals team is glad to have merged with Manipal Hospitals to form a larger entity that will now be able to serve a greater number of patients with clinical excellence embedded in its core medical values.”

About Manipal Hospitals:

As a pioneer in healthcare, Manipal Hospitals is India’s second largest multi-specialty healthcare providers treating over 4 million patients annually. With its recent acquisition of 100% stake in Columbia Asia Hospitals in India, the integrated organisation today has an enhanced pan-India footprint with 26 hospitals across 14 cities with 7,000+ beds with a talented pool of 4,000+ doctors and 10,000+ employees. Its focus is to develop an affordable, high quality healthcare framework through its multispecialty and tertiary care delivery spectrum and further extend it to out of hospital care. Manipal Hospitals provides comprehensive curative and preventive care for a multitude of patients from around the globe.

कोलंबिया एशिया अस्पताल के फ्रंट लाइन बर्कर्स ने कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली डोज़ उत्साह और स्वाभिमान से लगवाई

पटियाला 21 जनवरी, पिछले शनिवार देश की सबसे बड़ी कोरोना वैक्सीन ड्राइव की शुरुआत करते हुआ भारत में लाखों लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली डोज़ लगाई गयी I  भारत मैं बनाई गयी दो वैक्सीन्स कोविशिएल्ड और कोवाक्सिन प्रमुखता बाले लोगों के समूह को पिछले 5 दिन मैं लगाई गयी है I पटिआला में हज़ारों लोगों को ये वैक्सीन लगाई गयी जबकि बाकि लोग अपनी बारी इंतज़ार में हैं I कोलंबिया एशिया अस्पताल के 100 कर्मचरियों ने पहले दिन इस वैक्सीन की पहली डोज़ उत्साह और स्वाभिमान से लगवाई I

भारत जिसने की कोरोना वायरस महामारी को झेला है एशिया के अन्य देशों के मुकाबले सबसे पहले वैक्सीन  प्रोग्राम की शुरुआत की है I  कोरोना वैक्सीन लोगों के लिए चैन की साँस ले के आयी है और पूरी उम्मीद है की ये कोरोना वायरस का खौफ जो पिछले 10 महीनों में फैला है उसे ख़त्म करने में मदद करेगी I

आइये भारत के कोरोना वैक्सीन प्रोग्राम को समझें :

  • भारत में बनी दो कोरोना वायरस वैक्सीन उपलब्ध हैं कोविशिएल्ड जो कि सीरम इंस्टिट्यूट ने बनाई है और कोवाक्सिन जो की भारत बायोटेक  ने बनाई है I
  • 28 दिन के अंतराल के भीतर वैक्सीन कि दो खुराक दी जाएँगी और इसका प्रभाब दूसरी खुराक के 14 दिन बाद शुरू होगा I
  • वैक्सीन ज़रूरी मंज़ूरी के बाद ही प्रयोग में लाई गयी है और अथॉरिटीज ये पक्का कर रहे हैं कि वैक्सीन रस्ते में और स्टोरेज के दौरान 2 से 8 डिग्री सेल्सियस पर ही राखी जाये I
  • संभाभिक साइड इफ़ेक्ट इंजेक्शन कि जगह पर दर्द, हल्का बुखार, थकान, एलर्जी अदि हैं जो कि साधारण दबाई से ठीक हो सकते हैंI
  • लोग जिनको कि पहले कोरोना संक्रमण, क्रोनिक बीमारी या इम्यूनोडेफिशियेंसी और HIV से पीड़ित हैं के लिए ये वैक्सीन सुरक्षित हैI
  • वैक्सीन 1 करोड़ सरकारी और प्राइवेट हेल्थ वर्कर्स को और फिर 2 करोड़ फ्रंटलाइन एडमिनिस्ट्रेटिव और म्युनिसिपल वर्कर्स और 50 साल कि उम्र से ऊपर लोगों को लगाई जाएगी I
  • जो भी वैक्सीन के लिए रजिस्टर करना चाहते हैं वो यह CoWIN वेबसाइट के द्वारा सरकारी फोटो आई डी कार्ड से कर सकते हैंI इसके बाद निश्चित तिथि और समय रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेज दी जाएगी I

जिनको भी ये वैक्सीन अभी तक लगी है वो सभी अभी तक बिना ज्यादा कोई साइड इफ़ेक्ट के सुरक्षित पाए गए हैं I  हालाँकि वैक्सीन लगवाना पूरी तरह से स्वैछिक है पर कोरोना वायरस से बचाव के लिए ये वैक्सीन लगवाने कि सलाह दी जाती है I वैक्सीन लगवाने के बावजूद भी मास्क पहनने, सामाजिक दूरी बनाने और समय-समय पर हाथों को धोने और सेनीटाइज़ करने कि ज़रुरत है I


भारत के पास पहले भी बड़े स्तर पर वैक्सीन प्रोग्राम चलाने कि क्षमता और तज़र्बा है, इसलिए फ्रंट लाइन वर्कर्स और सरकार कि मदद से ये कार्यक्रम भी ठीक उसी तरीके से चलेगा I इस मुश्किल समय में यह वैक्सीन लगाने का कार्यक्रम देश की बयवसायिक स्तिथि को उभारने और सेहत कार्यक्रम को मज़बूत करने में जड़ी बूटी का काम करेगा I             

Frontline Workers at Columbia Asia Hospital Receive First COVID 19 Jab with Pride Leading the Vaccine Drive

Patiala, January 21, 2021: With the largest inoculation vaccine drive that started on Saturday, India has successfully administered the first jab of vaccine to lakhs of frontline workers. Two made-in-India vaccines, Covishield and Covaxin were administered to priority groups in the past 5 days. Thousands of people in Patiala received their first shot while others are awaiting their turn. 100 hospital staff at Columbia Asia Hospital Patiala including senior consultants received their first jab with pride and a sense of relief.

Senior Doctors at Columbia Asia Hospital Getting His 1st Dose of Vaccination

India which had seen a severe virus outbreak has rolled out the vaccine at the earliest among the other Asian countries. The vaccine has come as a sigh of relief for people and could aid in ending the COVID trauma experienced by people over the last 10 months.

Let’s understand all about the COVID-19 vaccination drive in India:

  • There are two made-in-India vaccines, Covishield, manufactured by Serum Institute and Covaxin, made by Bharat Biotech
  • Two doses will be injected within a gap of 28 days, the effectiveness will begin 14 days after the second dose
  • The vaccine has been introduced only after approval from the regulatory bodies. The authorities are making sure that the vaccines are kept at 2-8 degree Celsius during transit and storage
  • Possible side-effects include pain at the injection site, mild fever, fatigue, allergies, nausea, etc which can be relieved by simple medication
  • People with a previous history of Covid-19 infection, chronic diseases and comorbidities, immunodeficiency or HIV are considered safe to receive the vaccine
  • The vaccine will be given to 1 Crore private and public healthcare workers followed by 2 crore frontline administrative and municipal workers and people above the age of 50 years
  • Those who wish to register for the vaccine can do the same through CoWIN website using a government photo ID. Information on the allocated date and time will be sent to the given mobile number via an SMS

The recipients of the vaccine have been found to be safe without much side effects so far. While this vaccine administration is voluntary, it is recommended to take the vaccine for protection against COVID-19. Also, it is mandatory to wear mask and follow the COVID protocols like social distancing and washing or sanitising hands even after the vaccine has been administered.

India has the capability and experience in conducting massive vaccination drives in the past, the ongoing drive will also continue in the same manner with the support of the frontline workers and government officials. During these unprecedented times, the rollout of vaccination drive will certainly be a boon for the country in terms of effective health infrastructure and economic recovery.

बढ़ती सर्दी और कोबिड-19 में निमोनिया जैसी बिमारियों से बच्चों का रखें ख्याल

पटियाला 22 दिसंबर, सर्दियों का मौसम चरम पर है और इससे निमोनिया जैसी बीमारियों का खतरा है। यह बैक्टीरिया, वायरस और कवक के साथ फेफड़ों में संक्रमण के कारण होने वाली बीमारी है, जो फेफड़ों में एक तरल पदार्थ जमा करके, रक्त और ऑक्सीजन के प्रवाह में बाधा डालती है। बच्चों को निमोनिया का सबसे अधिक खतरा होता है क्योंकि उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली काफी मजबूत नहीं होती है और उनके फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं। शोध के अनुसार, भारत में हर साल लगभग 10 लाख बच्चों की मृत्यु निमोनिया से होती है। कोबिड-19 जैसी महामारी में  निमोनिया और भी घातक सिद्ध हो सकता है I


डॉ नीरज अरोड़ा कंसल्टेंट नियोनेटोलॉजिस्ट और बाल रोग विशेषज्ञ कोलंबिया एशिया अस्पताल, पटियाला

“शिशुओं और छोटे बच्चों को श्वसन संक्रांति विषाणु से निमोनिया हो सकता है और शिशु जन्म के समय समूह बी स्ट्रेप्टोकोकस से प्राप्त कर सकते हैं। अन्य बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण के परिणामस्वरूप पुराने बच्चे निमोनिया से पीड़ित हो सकते हैं। खांसी और बुखार निमोनिया के दो मुख्य लक्षण हैं। अन्य लक्षणों में कमजोरी, उल्टी, दस्त, भूख में कमी, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और सांस लेने में परेशानी शामिल हैं। इन लक्षणों में से कोई भी लक्षण बच्चों में देखे जाने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह ली जानी चाहिए ”, डॉ नीरज अरोड़ा कंसल्टेंट नियोनेटोलॉजिस्ट और बाल रोग विशेषज्ञ कोलंबिया एशिया अस्पताल, पटियाला ने बताया I

लोगों को इस खतरनाक बीमारी से बचाने के लिए निमोनिया के कारणों और बचाव के उपायों के बारे में जागरूक करना महत्वपूर्ण है। ठंड के महीनों में कुछ निवारक उपायों में बच्चों को परतों के नीचे रखना, उन्हें बहुत अधिक बाहर न करना, स्वस्थ आहार को बनाए रखना और उन्हें फ्लू और इन्फ्लूएंजा के खिलाफ टीका लगाया जाना शामिल है।